logo   

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक  

 विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

 

India Flag Nepal Flag

(c)२०००-२०२२.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए संपादकाधीन।

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

राज किशोर मिश्र, रिटायर्ड चीफ जेनरल मैनेजर (ई), बी.एस.एन.एल.(मुख्यालय), दिल्ली,गाम- अरेर डीह, पो. अरेर हाट, मधुबनी

भैआरी

माएक मरला बाद,भ्रातृ द्वय।
केवल पओलक, पितृ -सिनेह,
परिवारक अर्थव्यवस्था के,
एखनो छलथिन्ह पिते, मेह।

कनिके पढ़ि, दूनू भाइ करए
लागल खेती -पथारी,
भ' जाइत छलै, तरकारी -तीमन,
नमहर छलैक, बाड़ी ।

ओहि गाम भरि मे, दुहु भाइ,
भ्रातृत्व -सिनेहक, छल प्रतिमान,
बनले रहल, विवाह उपरान्तो ,
भ्रातृत्व -अपनापन, समान।

देआदनी के बीच मे,
मेल क' कनिको ने अभाव छल,
परिवार मे सुमतिक जेना ,
जबरदस्त, प्रभाव छल।

किछु बरखक पश्चात्, हिनक
पिता क' भए गेलन्हि स्वर्गवास,
बढ़ि गेलै, दूनू भाइ के ऊपर,
उत्तरदायित्व,बहुत रास।

पाइ -टका ल'क' किछु दिन सँ,
मतान्तर भेल, भैआरी मे,
कलह, दलानसँ आँगन आएल,
बाध-बो न, घराड़ी मे।


भनकी लागल किछु गौआँ के,
पओलक जेना सुअवसर,
चढ़बए लागल दूनू दिस,
किछु एमहर, किछु ओमहर।

खेते ल' क' नहि फरिछाएल,
पूर्ण नहि भेल बटबारा ,
जुआएल, अँकुराएल अड़ारि ,
इरखासँ भरल, पमारा।

बनल मंतव्य पंचैती के,
झंझट आरो, ओझरा गेल,
वाकयुद्ध, फेर मारि -मरौअलि ,
कतेको क' मोन जुड़ा गेल।

केलक मामिला, एक दोसर पर,
गाम क' चर्चा क' विषय छल,
आरो बढ़तै बात, तकर
भारी संशय आ भय छल।

की मोल रहल ओहि भातृत्वक?
जे'क्षणहि बिका गेल धन क' हाथ,
भैआरी जे उपमान बनैत छल,
टिक ने सकल ओ रातुक प्रात।

नहि रहल सिनेह, अँगना उदास,
अधिपत्य जमा लेलक इरखा ,
द्वेष, भुजंग सन, घूमि रहल छल
लपलपबैत जीह बड़का ।

एहि अन्हार मे अहंकार,
देखा रहल ओ निज भुजदण्ड ,
शालीनता, भ्रातृत्व के,
किए भोगि रहल छल एहन दण्ड ?

भेलै अंत निर्दोष सिनेहक,
हइर लेलकै ओकरा क्रूर द्वेष,
कुनह, कहू बढ़ि गेलै कते,
आबए धरि -धरि को न भेष?

चलि ते रहलै ओहिना कलेस,
भ' गेलै बन्द आब खान -पान,
टुटैत गेल संबंध सहोदरक'
खसि पहुँचल ,अंतिम सोपान।

जखन, कुमति चढ़ैत अछि सिर पर,
करैछ, सुबुद्धि निर्मूल,
सभटा उनटे होइत छै,
काल होइछ प्रतिकूल।

विनाश, मित्र बनि, बजा लैत अछि ,
सभटा, ध्वसं, अनिष्ट,
संकट सँ भरि दैत छै,
दुर्बुद्धि क' भाग -अदिष्ट।

अमंगल भरल, मोन मे,
सोच, कुटिल योजना सँ,
माथा चलैत रहै छै सदिखन,
षड्यंत्र, प्रवंचना सँ।

घोर द्वेषक वातावरण मे,
संबंध खसैत अछि बहुत तेज,
रोकए अबैत अछि मर्यादा ,
मुदा, के करतै ओकर परहेज?

कटुता, व्यंग्य भरल मुख सँ,
निकलैत अछि जे, शब्द -वाण,
हृदय बेधि व्रण करैछ तेना,
मोसकिल, ओकर छूटब निसान।

संबंधक अधो पतन सँ,
भए गेल कलंकित भैआरी ,
रुकल कहाँ? दूनू कए लेलक,
विनाशक अंतिम तैआरी।

अदनो सँ अदना, भेलै अपन,
भए गेल सहोदर, आन -आन,
अपनापन, इरखा कोना रहतै?
संग -संग दुहू एक मिआन।

कोना, अपन अपना के उजाड़ल ?
लेब 'चाहए ,एक -दोसरक प्राण,
'सहोदर सन ने किओ जगत् मे',
मिथ्या भ' गेल एकर प्रमाण।

काल -चक्र घूमल आगू,
जेठ भाइ पड़ि गेलै बेमार,
इला जत' चललै, मुदा
अउषधि ने पाबए दुः खक'पा र।

भीतरे -भीतरे, लगै जेना ,
जड़ि आएल छै मन मे कचोट,
छै उठल ,भावना के बिहारि ,
मामूली ने ई छोट -मोट।

धिक्कार अछि निज जीवन पर,
जे, अनुज सँ हमरा भेल द्वेष ,
नहि देलिऐ,ओ सिनेह हम,
अधिकार जाहि पर, ओकर अशेष।

बाल्य -काल सँ, छोट भाए के,
करैत छलै ओ कतेक दुलार?
जमल सिनेह जेना घमि क'
बनि नोर, बहय नोरक पलार।

जेना बान्ह, टुटि गेलै मोन मे,
बहि चललै, भ्रातृ -सिनेह क' धार,
भेलै, डुबा देत हृदय -मोन के,
कोना क' उतरब एहि सँ पार?

अपने त' छल मौन, मुदा
ताकए आँि ख, हरदम, कोनो बाट,
दुखित जानि, आओत अनुज,
किओ कहने हेतए, बाट -घाट।

इलाज होइत रहलैक, मुदा
स्थिति मे नहि भ' सकलै सुधार,
मोने -मोन, अहुरिआ काटए,
भाए पड़ए मोन, बारम्बार।

कुहरए लागल, कानए लागल,
अंत ओकर, उपस्थित भेल,
मुह मे भाएक नाम एलै,
आ, बाट तकैत, परलोक गेल।

'अंतिम काल 'के खबरि पाबि ,
एलैक अनुज, दौड़ल -दौड़ल,
चिचिआइत 'भैआ -भैआ,'ओ
अग्रज क' पएर पर खसि पड़ल।

पछताइत छलैक, मोन अनुज के,
फटैत छलैक ओकरा कुहेस,
पश्चात्तापक आगि मे,

धधकै,ओकर हृदय -प्रदेश।

"रुसल चलि गेलाह भैआ,
माफीओ ने माँगि सकलहुँ हम ,
सहोदर त' ने होएत दोसर,"
बाजए, नयन नोर सँ नम।

आँखिक नोर द', जमल द्वेष
बनि तरल, खसल धरती पर,
भ्रातृत्वक अपराजित सिनेह,
हरिआए गेल परती पर।

डारि -पात त' सुखा गेलै,
मुदा, सिनेहक जड़ि ने सुखाएल,
पर, अपसोच एहि बात क' जे,
'सारा'पर किएक फुला एल?

अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।