logo logo  

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक बालानां कृते

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-१७. सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

बालानां कृते

विदेह मैथिली मानक भाषा आ मैथिली भाषा सम्पादन पाठ्यक्रम

भाषापाक

मुन्नी कामत- तीनटा बाल कविता- जतरा/ अंकक मेल/ बहिन

जतरा

 बाबू आबि रहल

अछि जतरा

लेब अहाँसँ लब कपड़ा

घुरैले जाएब

अहाँ संगे मेला

देखब ओतए

कठपुतलीक खेला

कीनब हम

एगो उड़न जहाज

तैपर बैस

घुमब सगरे संसार।

 

अंकक मेल

 

चलू खेलब आइ हम एगो खेल

जइमे एक संगे करब केतेक अंकक मेल।

 

1-2-3-4-5-6-7-8-9-दस

अइसँ आगू चलत एगो बस।

 

छुक-छुक नहि

ई तेज दौड़ैए

एक-पर-एक एग्यारह

भऽ जाइए।

 

एक-पर-दू बैस 12

एक-पर-तीन बैस 13

एक-पर-चारि बैस 14

एक-पर-पाँच बैस 15

एक-पर-छअ बैस 16

एक-पर-सात बैस 17

एक-पर-आठ बैस 18

एक-पर-नअ बैस 19

दूपर बैस जिरो बीस भऽ गेल

पहिले एक असगर छल

आब उन्नीसटा भऽ गेल!

 

अहिना एकता अपन जीवन

मे अहूँ लाउ

मिल कऽ अपन शक्ति बढ़ाउ।

 

बहि‍न

 

माए हमरा एगो

बहिन आनि दे।

 

चल बजार उ

बजैबला गुड़िया

कीनि‍ दे।

 

जे हमरा भैया कहत

सभ साल हमरा हाथ

पर राखी बान्हत

उ चुलबुलिया मुनिया आनि दे।

 

किए तूँ हमरा

असगर रखने छेँ

हमरासँ बहिनक सिनेह

छीनने छेँ

तूँ हमर कान्हाकेँ

राधा आनि दे

माए हमरा एगो बहिन आनि दे।

 

केकर भय तोरा सतबै छउ

कोन बात छै जे तोहर

आँखि भरै छउ

तूहों तँ केकरो बहिन छी

तँ फेर किए हमरा

बहिन-ले कंश बनल छेँ

हमरा तूँ एगो मौका दऽ दे

माए हमरा बहिनक जिनगी बकैस दे

ई सोन चिड़ैया चिड़ियाँ आनि दे

माए हमरा एगो बहिन आनि दे।

 

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।