logo logo  

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक बालानां कृते

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-१६. सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

बालानां कृते

विदेह मैथिली मानक भाषा आ मैथिली भाषा सम्पादन पाठ्यक्रम

भाषापाक

राजेश मोहन

बाल कविता

भादवक अन्हरिया
*************

भादवक राति घनघोर अन्हारि
कांपय पात आ डोलय ठांढ़ि

शांत जगत निशब्द राति
बिजुरी खन खन चमकै दुआरि।
सूखल ठूठ गाछ पर भगजोगनी उड़ैए
जेना मसान मे चिता सँ लुत्ती उड़ैए
एहन अन्हार कहिओ नहि देखल
पल-क्षण-पहर आब लगै पहाड़ 
ममता चिरनिद्रा मे जीवन उधार 
मनुक्खक मोन,आश नहि तेजल 
विधानक लेख कहियो नहि मेटल
एहि जीवन मे,
जौं देखलहुं,
शरदक चान इजोरिया फुहारि
त' कहियो काट' पड़त 
भादवक ई वीभत्स अन्हारि
जरैत दीप केर 
किछु शिखा अछि बांचल
मिझाओत निश्चय
अंत कथा बिधना केर रचल
बीति गेल राति दिनकर अयला
भेल इजोत अन्हारि परा गेल
मुदा जे लिखल छल ओ भ' गेल
ई वीभत्स भादवक अन्हरिया!
त्याग-ममताक जीवन हरि लेल॥

 

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।